World Kidney Day कब और क्यों मनाया जाता है

World Kidney Day in Hindi

World Kidney Day in Hindi

दोस्तो, आप सभी जानते होंगे कि जैसे-जैसे हमारे देश में नवीन तकनीकी का विकास हुआ है। वैसे-वैसे ही बीमारियों का विकास भी हुआ है। आज के समय में रोज किसी न किसी प्रकार की बीमारी का जन्म होता है। लेकिन महत्वपूर्ण बात यह है कि हमारे पास इसका ईलाज है। दोस्तों, वैसे तो बहुत सी बीमारियां हमारे यहाँ पर व्याप्त है। World Kidney Day in Hindi

लेकिन आज मैं आपको एक ऐसी बीमारी के बारे में बताऊंगा, जो कि बहुत ही विकट बीमारी है और सामान्यतः लोग इसे नजरअंदाज करके इसका शिकार हो जाते है। दोस्तों, मैं बात कर रहा हूँ किडनी के रोग के बारे में। इस रोग के विरुद्ध कई अभियान भी चलाये गए। अंततः इसे एक दिवस के रूप में घोषित किया गया। जिसे “विश्व किडनी दिवस” कहते है।

विश्व किडनी दिवस :- World Kidney Day in Hindi

दोस्तों, विश्व किडनी दिवस की शुरूआत सन 2006 में हुई थी। इस दिवस को मनाने के पीछे सिर्फ एक मुख्य उद्देश्य था और वह यह था कि इसके द्वारा लोग अपनी किडनी से सम्बंधित सभी रोगों के प्रति जागरूक हो सके और इस प्रकार की समस्या से निदान प्राप्त कर सके। किडनी से जुड़ी बहुत सी बीमारियां बहुत ही अधिक तेज गति से बढ़ रही थी। World Kidney Day in Hindi

इसीलिए “इंटरनेशनल सोसायटी ऑफ किडनी डीसीसेस” और “इंटरनेशनल सोसायटी ऑफ नेफ्रोलॉजी” ने इस बीमारी की विरुद्ध एक कड़ा कदम उठाया और तभी से इस एक दिवस के रूप ने मनाया जाने लगा। दोस्तों, “विश्व किडनी दिवस” प्रत्येक वर्ष मार्च के महीने के दूसरे सप्ताह के गुरुवार को मनाया जाता है।

आज हम आपको “विश्व किडनी दिवस” के इस मौके पर किडनी से जुड़ी बहुत सी जानकारियां प्रदान करेंगे। तो चलिए दोस्तों, शुरू करते है

मानव शरीर में किडनी कहाँ पर होती है ? Where is the Kidney Located in Human Body

दोस्तों, मानव शरीर में किडनी शरीर में रीढ़ की की हड्डी के दोनों और पसलियों के नीचे और पेट के पीछे की तरफ बीन के आकार की 2 अंगों की जोड़ी होती है।

किडनी के रोग के सामान्य लक्षण 

दोस्तों, किडनी के रोग के जो सामान्यतः कारण पाए जाते है, वह है:- बहुत ही ज्यादा लापरवाही और सही समय पर उपचार नही करवाना। पहले के समय किडनी के रोग का किसी भी प्रकार का कोई उपचार भारत में मौजूद नही था, किन्तु आज के समय में इसके उपचार के बहुत ही नवीन साधन भारत में मौजूद है।

लेकिन एक बहुत ही महत्वपूर्ण कारण अभी भी यहाँ पर व्याप्त है और वह कारण कुछ और नही बल्कि लापरवाही है। किडनी की बीमारी से “गुर्दों में पथरी, कैंसर और गुर्दों का काम करना बंद” हो जाता है। इस विकट परिस्थिति में अगर समय पर उपचार करवा लिया तो किडनी को आसानी से बचाया जा सकता है। World Kidney Day in Hindi

किडनी में पथरी और कैंसर के सामान्यतः लक्षण

दोस्तों, जब किडनी में पथरी हो जाती है तो उसका सामान्य लक्षण है:- दर्द, बुखार, जलन, उल्टी व पेशाब में खून आना। इसके अलावा अगर किडनी में कैंसर हो जाए तो निम्न प्रकार के लक्षण दिखाई देते है। जैसे:- पेट में भारीपन, दर्द, बुखार व पेशाब में खून आना आदि। किडनी फैल होने के मामले में पीड़ित को उल्टी का मन व उल्टी आती है, उसके चेहरे पर सूजन आती है और पेशाब की मात्रा भी बहुत कम हो जाती है।

किडनी के रोग के कारण

दोस्तों, डॉक्टरों ने यह मन है कि मानव शरीर में किडनी में पथरी होना एक आम बात है। भारत में राजस्थान, मध्यप्रदेश, गुजरात और उत्तर-महाराष्ट्र में यह बहुत ही विकट समस्या है। इसका कारण है:- व्यक्ति का पानी कम पीना, गर्म जलवायु और इंफेक्शन का हो जाना।

Conclusion

मैं आशा करता हूँ कि World Kidney Day in Hindi के बारें में मैंने आपको जो कुछ बताया है वह आपको अच्छा लगा होगा। हम सभी का यह कर्तव्य है कि सभी लोगों को इसके बारे में जागरूक करना चाहिए और अगर किडनी के रोग का कोई भी लक्षण दिखे तो चिकित्सक से परामर्श अवश्य ले।

अगर आपके मन में World Kidney Day in Hindi से सम्बंधित किसी भी प्रकार का प्रश्न है तो आप हमसें कमेंट के माध्यम से पूछ सकते है। हम आपके प्रश्न का जवाब देने की पूरी कोशिश करेंगे। आगे भी हम आपके लिए ऐसे ही उपयोगी आर्टिकल लाते रहेंगे।

अगर आपको हमारा यह World Kidney Day in Hindi आर्टिकल अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर कीजिये और हमारें Blog को सब्सक्राइब भी कीजिये जिससे आपको हमारें नये आर्टिकल के आने की नोटिफिकेशन मिल जाएगी। आप हमारें Facebook Page को भी जरूर लाइक करें जिससे आपको लेटेस्ट पोस्ट की सूचना समय पर प्राप्त हो जाएगी। World Kidney Day in Hindi
धन्यवाद…

हमारा देश कब आज़ाद हुआ था इसके पीछे की पूरी कहानी

swatantrata diwas ki kahani

हमारा देश कब आज़ाद हुआ था इसके पीछे की पूरी कहानी

आइए दोस्तों आज हम बात करेंगे 15 अगस्त के बारे में जिसे हम हर वर्ष मनाते है। इसकी पूरी जानकारी आपको हम बताने जा रहे है, की 15 अगस्त को हम हर वर्ष क्यों मनाते है। और मनाते हैं तो इसका कारण क्या है, किस लिए मनाया जाता है ,और हमारा भारत ब्रिटिश शासन से कब आजाद हुआ था। इन सभी जानकारियों को पाने के लिए आगे पढ़ें!

भारत देश ब्रिटिश शासन से कब आजाद हुआ था 

 

हमारे भारत में 15 अगस्त का दिन वह दिन है जिस दिन हमारा भारत ब्रिटिश शासन से आजाद हुआ था। उसी दिन से यह स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है पहली बार स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त 1947 ईं. में मनाया गया था। और तभी से आजादी का उत्सव हर वर्ष 15 अगस्त को मनाया जाता है।

आइए जाने  इसका कारण की हर वर्ष 15 अगस्त क्यों मनाया जाता है 

हमारे यहां 15 अगस्त इसलिए बनाया जाता है, कि जब हमारा भारत ब्रिटिश शासन से 15 अगस्त 1947 को आजाद हुआ था। तो उस दिन हमारे भारत के लोग बहुत ही स्वतंत्र महसूस कर रहे थे।  इस दिन हमारा भारत एक स्वतंत्र राष्ट्र बना था ।और इस दिन को याद रखने के लिए उस दिन हमारे भारत में 15 अगस्त मनाया गया था । और  तभी से  हर वर्ष हमारे यहां 15 अगस्त मनाया जाता है। इसका मुख्य उद्देश्य है कि  इस डॉन लोग स्वतंत्रता पूर्वक खुशियां मनाते हैं और उस दिन किसी को किसी भी प्रकार का रोक – टोक या बंधन नही होता है वो अपने मन से स्वतंत्रता की खुशियां मनाते है। हमारे यहां इस दिल को राष्ट्रीय और राजपत्रित अवकाश के रूप में घोषित किए हुए हैं।

 

भारत के साथ और कौन-कौन से देशों में 15 अगस्त मनाया जाता है 

1.कॉन्गो (Congo)

कांगो 15 अगस्त 1960 को फ्रांस से आजाद हुआ था।

2. बहरीन (Bahrain)

बहरीन 15 अगस्त 1971 को यूनाइटेड किंगडम से आजाद हुआ था।

3.साउथ कोरिया (South Korea)

साउथ कोरिया 15 अगस्त 1945 को जापान से सुबह के समय आजाद हुआ था।

4.नार्थ कोरिया (North Korea)

नार्थ कोरिया 15 अगस्त 1945 को जापान से शाम के समय आजाद हुआ था।

 

स्वतंत्रता के दिन शहीद सेनानियों की यादें 

 

हमारे भारत को आजाद कराना आसान नहीं बल्कि नामुमकिन था लेकिन हमारे देश भक्तों ने हार नहीं माने उन्होंने बहुत ही कठिनाइयों का सामना किया और वे भारत को ब्रिटिश शासकों से  आजादी दिलाने के लिए हमारे यहां के सैनिकों ने अपनी जान की कुर्बानी दे दी उन्होंने अपने घर परिवार किसी के बारे में नहीं सोचा इसलिए हम वह हर वर्ष उन्हें 15 अगस्त के दिन जरूर याद करते हैं और उन्हें हर वर्ष इस दिन  श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं।

15 अगस्त कैसे मनाते हैं :- How to celebrate independence day

15 अगस्त की तैयारी हम लोग दो-तीन दिन पहले से ही करते हैं, क्योंकि इस दिन हमारे यहां रंगारंग कार्यक्रम गीत ,भाषण , नाटक,इत्यादि प्रोग्राम किए जाते हैं और हमारे स्कूलों व  कालेजों  की सफाई की जाती है और उसे सजाया भी जाता है। उस दिन हमारे स्कूलों एवं कॉलेजों में बड़े- बड़े नेता और बड़े-बड़े लोग आते हैं, उनके आने के बाद हमारे यहां झंडा फहराया जाता है उसके बाद उनका स्वागत हुम् स्वागत गीतों से करते है।उसके बाद कार्यक्रम गीत व नाटक भाषण आदि प्रोग्राम किये जाते हैं।जिससे लोग बहुत प्रसन्न और खुश होते है । इसके बाद कार्यक्रम करने वाले बच्चो को इनाम के रूम में पेन, कॉपी व पैसे दिए जाते है।

हमारे यहां का राष्ट्रगीत:- Our National Song

 

“वन्देमातरम”

वन्दे मातरम्
सुजलां सुफलाम्
मलयजशीतलाम्
शस्यश्यामलाम्
मातरम्।

शुभ्रज्योत्स्नापुलकितयामिनीम्
फुल्लकुसुमितद्रुमदलशोभिनीम्
सुहासिनीं सुमधुर भाषिणीम्
सुखदां वरदां मातरम्॥ १॥ 

कोटि कोटि-कण्ठ-कल-कल-निनाद-कराले
कोटि-कोटि-भुजैर्धृत-खरकरवाले,
अबला केन मा एत बले।
बहुबलधारिणीं 
नमामि तारिणीं
रिपुदलवारिणीं 
मातरम्॥ २॥

तुमि विद्या, तुमि धर्म
तुमि हृदि, तुमि मर्म
त्वम् हि प्राणा: शरीरे
बाहुते तुमि मा शक्ति,
हृदये तुमि मा भक्ति,
तोमारई प्रतिमा गडी मन्दिरे-मन्दिरे॥ ३॥

त्वम् हि दुर्गा दशप्रहरणधारिणी
कमला कमलदलविहारिणी
वाणी विद्यादायिनी,
नमामि त्वाम्
नमामि कमलाम्
अमलां अतुलाम्
सुजलां सुफलाम् 
मातरम्॥४॥

वन्दे मातरम्
श्यामलाम् सरलाम्
सुस्मिताम् भूषिताम्
धरणीं भरणीं 
मातरम्॥ ५॥

                   (बंकिम चंद्र चटर्जी)

इस गीत को हमारे यहाँ 15 अगस्त को हमारे स्कूलों व कॉलेजो में गया जाता है ।

हमारे यहां का राष्ट्रगान:- Our national anthem

 

जन-गण-मन अधिनायक जय हे,
भारत-भाग्य-विधाता ।

पंजाब सिन्धु गुजरात मराठा,
द्रावि़ड़ उत्कल बंग ।

विन्ध्य हिमाचल यमुना गंगा,
उच्छल जलधि तरंग ।

तव शुभ नामे जागे,
तव शुभ आशिष मांगे,
गाहे तव जय गाथा ।

जन-गण मंगलदायक जय हे,
भारत-भाग्य-विधाता ।

जय हे ! जय हे !! जय हे !!!
जय ! जय ! जय ! जय हे !!

                                     (रवींद्रनाथ टैगोर)

 

स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त पर भाषण :- independence day speech in Hindi

आदरणीय महोदय, मुख्य अतिथि ,शिक्षकों, भाइयों एवं बहनों स्वतंत्रता दिवस की इस पावन अवसर पर मुझे अपनी सुविचारो को बोलने का अवसर दिया गया है । जिसका धन्यवाद हम आप सबको देना चाहते है ,मुझे अपने देश के प्रति कुछ बोलने का अवसर प्राप्त हुआ है। जिससे मुझे बहुत हर्ष की अनुभूति हो रही है ,आज यह हमारा 73 वां स्वतंत्रता दिवस है हमारे देश को आजाद कराने में बहुत ही देश भक्तों की जाने जा चुकी है इसलिए हम उनके कुर्बानी को कभी भूल नहीं सकते और वह जो चाहते थे, और हमें कह कर गए हैं कि हमें अपने देश के प्रति कभी किसी भी प्रकार का धोखा या अपने भारत माता को कोई नुकसान नहीं पहुंचाना चाहिए । हमारे देश की स्वतंत्रता की कहानी इतना बड़ा है कि हम अपने इस छोटे शब्दो में तो उसे कह नहीं सकते लेकिन, इतना जरूर कहेंगे कि जो लोग हमारे देश के प्रति प्रेम करते थे उन्हीं देश भक्तो की वजह से आज हम लोग स्वतंत्र हैं।

स्वतंत्रता दिवस राष्ट्रीय पर्वों में से एक है

जय हिंद जय भारत!

स्वतंत्रता दिवस के कुछ नारे:- Independence day slogan in hindi

 

“करो या मरो ” – महात्मा गांधी जी

“जय जवान जय किसान ”  .- लाल बहादुर शास्त्री जी

“तुम मुझे खून दो मैं तुझे आजादी दूंगा ” – सुभाष चंद्र बोस जी

“आराम हराम है” – जवाहरलाल नेहरू जी

“इंकलाब जिंदाबाद” – भगत सिंह जी

“सत्यमेव जयते “-पंडित मदन मोहन मालवीय जी

“साइमन कमीशन वापस जाओ”- लाला लाजपत राय जी

“अंग्रेजों भारत छोड़ो” – महात्मा गांधी जी

“जय हिंद”- सुभाष चंद्र बोस जी

“सारे जहां से अच्छा हिंदुस्ता हमारा हमारा”- अल्लामा इकबाल जी

Read More