बेटियाँ तो परायी होती है लड़कियों का घर कहाँ है l उनका वजूद कहाँ है 

0
235
betiya parai hoti hai

बेटियाँ तो परायी होती है 

बेटियाँ तो हमेसा पराया धन होती है माँ मैं तुमको कुछ कह भी नहि सकती  बस सारी बातें ख़ुद में समेट लेती हू तुमसे अब अपना दर्द भी नहि बता सकती  तुम्हारी ही बेटी हू पर तुमसे दूर हो गई   वो बेटी हू जो शादी से पहले एक छोटी चोट को भी इतना बड़ा बताती और तुम परेशान हो जाती और जल्दी से उसे ठीक करने में लग जाती पर माँ आज इतनी बड़ी बड़ी बातें किससे कहु क्यू दूर कर दिया ख़ुद से तुमसे हर दर्द अब छुपाती हू कि कहि तुम परेशान ना हो जाओ  तुमने ही मुझे जनम दिया और आज तुम इतनी दूर हो की मैं तुम्हारे गोद में सर रख कर रो भी नहि सकती इतनी आभागी हू मैं माँ

बहुत लोग है मेरे आसपास पर माँ हर दर्द और तकलीफ़ में तुम्हारे अलावा किसी कि याद नहि आती तुम सबसे पहलें याद आती हो माँ

भगवान ने  बेटियाँ बनायी ही क्यू जब हर  जगह उसे पराया ही करना था

जब मायके में रहो तो लोग कहते है कि तुम परायी धन हो तुम्हें दूसरे के घर जाना है फिर जब ससुराल में आयी तो पति ने कहा कि ये तुम्हारा घर नहीं ससुराल है 

लड़कियों का घर कहाँ है उनका वजूद कहाँ है 

लड़की से बड़ा दुर्भाग्य तो किसी का नहि हो सकता जब पेट में रहतीं है और दुनियाँ वालों को पता चलता है कि बेटी हैं तो उसे  पेंट में हीं मार देते है बाहर आने पे लोग कहते है कि बोझ आ गयीं धरती पे  पर माँ सब सुनती हैं और उसे बहुत दर्द होता है कि मेरे अंश को लोग कह रहे है और मैं कुछ नहि कर पा रही

बड़ी हो गयी तो लोग ये नहीं सोचते कि पढ़ा लिखा के नौकरी दिलाए जितना वो दहेज देते है उतना उस लड़की को पढ़ा लिखा के नौकरी दिलाए जिस चीज़ से वो अपनी पूरी ज़िन्दगी में कुछ दर्द को कम झेलेगी

दहेज का पैसा तो ख़त्म हो जाएगा फिर से उसे सब कुछ झेलना पड़ेगा वो सब करेगी पर छोटी सी बात के लिए उसे ये सुनना पड़ेगा की यें तुम्हारा घर नहि हैं

हम बेटियों को उनके बेटी होने के दर्द और परेशानियों को तो ख़त्म नहीं कर सकते लेकिन उनमें कुछ कमी तो कर सकते है उन्हें पढ़ा लिखा कर नौकरी दिला कर

एक लड़की हमेशा चुप रहती है हर बात सुनती है अगर ग़लती ना भी हो तो भी कह देती है कि ग़लती है मेरी ताकि उसका परिवार ना टूटे लोगों कि कड़वी बात भी हँस के सुन लेती है उसे बार बार ये एहसास दिलाया जाता है कि वो लड़की है उसके मर्यादा है उसकी अपनी एक संस्कृति है लेकिन लड़कों की कोई मर्यादा नहि कोई संस्कार नहि सब लड़कियों के ही होने चाहिए

जब एक लड़की इस दुनियाँ में आती है तो उसके माँ के मन में ये ज़रूर होता होगा कि फिर से मेरी बच्ची को भी सब झेलना पड़ेगा जो कुछ मैंने झेला है और उसी दिन से वो ये पूरी कोशिश करती है कि जो कुछ भी मैंने सहा है उसे ना झेलना पड़े

एक माँ  चाहती है कि उसके बेटी कि ज़िन्दगी में कोई भी दुःख ना आए

हर बेटी अपने mummy papa कि परी होती है

एक रीसर्च में ये बात सामने आयी कि एक महिला एक duty करने वाले आदमी से 1घण्टे अधिक कार्य करती है वो भी बिना किसी salary के

लेकिन फिर भी हम उन्हें सम्मान नहि देते

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here